KESHAV & SHARMA JI : लड़कियां झूठ नहीं बोलती

Please Share :

Dr. G.Singh

केशव :  अरे शर्मा जी  यह लठ लेकर  कहाँ जा रहे हैं

शर्मा : केशव जी आप भी आइये जरूरी काम है

केशव : शर्मा जी आप यहाँ आइये भीड़ मैं आपका कोई काम नहीं है

शर्मा : लीजिये आ गया अब बताइये

केशव : बैठिये और यह बताइये की यह भीड़ कहाँ जा रही है

शर्मा : मैं आपसे पहले भी बताया है न मोड़ पर खड़े हुए लड़के बदमाश हैं पर आप मानते कहाँ हैं

केशव : क्या कर दिया उन लड़कों ने

शर्मा : अपने मोहित की बिटिया नीना को किसी ने छेड़ा है

केशव : आपसे किसने कहा

शर्मा : नीना ने

केशव : कब की बात है यह

शर्मा : यही कोई 10 या 15 मिनट पहले की

केशव : मैं यहाँ सुबह से बैठा हूँ मैंने तो नीना को इस तरफ आते जाते नहीं देखा

शर्मा : आपका ध्यान अख़बार मैं होगा वरना नीना झूठ क्यों बोलेगी

केशव : यह सही है की मैं अखबार पढ़ रहा था पर इतना डूबा हुआ भी नहीं था आस पास का ध्यान ही न रहे
केशव : फिर नीना जब भी इधर से गुजरती है नमस्ते बुला कर ही जाती है | आज तो मैंने नमस्ते नहीं सुनी

शर्मा : अरे परन्तु नीना झूठ क्यों बोलेगी

केशव : नीना के झूठ बोलने के तो कई कारण हो सकते हैं

शर्मा : जैसे की

केशव : स्कूल मैं किसी से झगड़ा | बदला लेने के लिए झूठ बोल दिया हो

शर्मा : कैसी बात करते हैं केशव जी नीना शरीफ घर की लड़की है

केशव : नीना मोहित की लड़की है न

शर्मा : हां

केशव : अभी कुछ दिन पहले ही तो आप कह रहे थे की मोहित और उसका लड़का बहुत झूठ बोलते हैं

शर्मा : बिलकुल दोनों एक नंबर के झूठे हैं

केशव : नीना उसी परिवार की लड़की है तो वह झूठ क्यों नहीं बोल सकती

शर्मा : अरे वह लड़की है

केशव : तो क्या लड़की होना झूठ नहीं बोलने का प्रमाण पत्र है

शर्मा : संस्कार

केशव : संस्कार तो नीना को वही मिले होंगे जो मोहित और उसकी पत्नी मैं होंगे | वही संस्कार  मोहित के लड़के को भी मिले होंगे न | या नीना के लिए संस्कार कहीं और से खरीद कर लाये गए | जब मोहित का लड़का झूठ बोल सकता है तो उसी संस्कारों मैं पाली नीना क्यों नहीं

शर्मा : आपसे तो बहस करना ही बेकार है

केशव : नीना और उसके भाई मैं एक जैसे संस्कार है एक ही DNA है फिर आप एक को झूठों का बादशाह और दूसरे को सच्चों की रानी कैसे मान रहे हैं

शर्मा : बात तो आपकी ठीक ही है परन्तु

केशव : इस परन्तु को छोड़िये और इस पागलपन से बाहर निकलिए की लड़कियां झूठ नहीं बोलती

शर्मा : कैसे निकलें बहार

केशव : अपने बच्चों को यह सिखाइये की लड़के और लड़की मैं कोई फरक नहीं जितनी अच्छाई लड़कों मैं है उतनी ही लड़कियों मैं | ना कम ना ज्यादा  ताकि अगली जनरेशन तो सही सोचने के काबिल बन सके

शर्मा : ठीक कहा आपने

केशव : चलिए फिर इसी बात पर एक कप चाय हो जाये

शर्मा : क्या लड़कों को बचाने नहीं चलना चाहिए हम लोगों को

केशव : नहीं बच्चे समर्थ है | अगर विश्वास न हो तो 29 अप्रैल 2017 को जंतर मंतर, दिल्ली पर जा कर देखिये | वह देखिये मोहल्ले वाले अपना सा मुँह ले कर वापिस आ रहे हैं

शर्मा : तो क्या आप मोहल्ले वालों को समझने की कोशिश नहीं करेंगे

केशव : नहीं शर्मा जी आप तो अपने है इस लिए आपसे बहस कर लेता हूँ | भीड़ को नहीं समझाया जा सकता

शर्मा : फिर भी कोशिश तो करनी ही चाहिए

केशव : बिलकुल कर रहा हूँ ना | देखिये मैंने आपको समझाया आप अपने घर पर समझाइये और दोस्तों को | इस तरह से ही जागरूकता आएगी

शर्मा : ठीक कहा आपने

 

Translated by Deepak Mittal

 

Keshav: Hey Sharma ji, where are you going with stick in your hand?

Sharma : You also come Mr. Keshav, it’s an important work.

Keshav : Sharma ji, come here. You should not go with the crowd.

Sharma : Ok.. I am here. Now tell!

Keshav : Sit here & tell where this mob is going.

Sharma : I told you already the boys standing at the road turn are bad & punk. But you don’t listen.

Keshav : What did they do?

Sharma : Somebody has teased Mr. Mohit’s daughter Nina.

Keshav : Who told you?

Sharma: Nina told me.

Keshav : When did this happened?

Sharma : It’s about 10-15 mins before.

Keshav : I am sitting here since morning. I have not seen Nina going or coming this way.

Sharma : You must be busy reading newspaper. Otherwise why Nina would lie?

Keshav : Yes I was reading newspaper. But this does not mean I am not aware of what is happening around.

Keshav : And whenever Nina goes from here she use to say Namaste. I did not hear any Namaste today.

Sharma : Hey, but why would she lie?

Keshav : Nina may lie because of many reasons.

Sharma : like ?

Keshav : She may have fight in school. Just to take revenge she might be lying.

Sharma: What are you saying Mr. Keshav. Nina is from a noble family.

Keshav : Nina is Mohit’s daughter , right?

Sharma : Yes

Keshav: Just some days back you were saying that Mohit & his son lie all the time.

Sharma : Yes. Absolutely. They both are no. 1 liars.

Keshav : Nina is also from the same family. Why she cannot lie?

Sharma : Hey, she is a girl..

Keshav : As she is a girl, is it a certificate that she does not lie?

Sharma : It about the family values.

Keshav: The family values will be same in Nina as in Mohit & his wife. The same was imparted to their son. Did they bring any values from outside for her? If Mohit’s son lies, Nina brought up in the same family, why can’t she be lying?

Sharma: It’s a total waste debating with you.

Keshav : Nina & her brother have same family values & DNA. Then why are you thinking one as king of all liars & other as queen of truths.

Sharma : Yes, you are saying it right. But…

Keshav : Leave this ifs & buts.. And be out of this misconception that girls don’t lie.

Sharma : How can we be out of this misconception?

Keshav : We should teach our children that the boys & girls are same. There is no difference in them. Boys are as good as girls. Not less not more, exactly same. With this the new generation will be able to think in right way.

Sharma : Yes, you are right.

Keshav : Let’s have a cup of tea on this.

Sharma : Should not we go to save boys?

Keshav : No. Boys are capable. If you don’t believe go the Jantar Mantar, New Delhi on 29.04.2017.

Keshav : See, the colony people are coming with their hang faces.

Sharma : Then will you not try to explain to them?

Keshav : No Sharma Ji. You are my fast friend. That’s way I explained to you. The mob cannot be explained..

Sharma : Still we should try.

Keshav : Yes, I am doing it. I have explained to you. You can explain to your family & friends. By this way we can spread awareness.

Sharma: Yes, you are right!

 

 

DAMAN WELFARE SOCIETY

www.daman4men.in

 

 

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*