Be A Men

Please Share :

A MEN

बहुत थक सा गया हूँ खुद को यू निर्दोष साबित करते करते.... 
शायद आदमी होने की सज़ा कटती है कटतेे कटते
यूँ तो सब कुछ सलामत है तेरी दुनिया मैं ऐ खुदा 
बस आदमी ही है जो कुछ बिखरा बिखरा सा नज़र आता है

 

 

Daman Welfare Society

www.daman4men.in

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*