KESHAV & SHARMA JI : RAPE (रेप)

Please Share :

Dr. G.Singh

 

 

शर्मा : नमस्कार केशव जी
केशव : नमस्कार शर्मा जी | क्या कुछ खास है अखबार मैं
शर्मा : जी है यह देखिये पास वाले मोहले की न्यूज़ छपी है
केशव : क्या छपा है
शर्मा : अपने मास्टर जी की लड़की को 1 गुंडा उठा कर नज़ीरपुर के खंडहर मैं ले गए और बन्दूक के दम पर रेप किया
केशव : बुरा हुआ
शर्मा : इससे भी बुरा हुआ है केशव जी
केशव : वह क्या
शर्मा : अपने माधव का लड़का वही था उसने लड़की को खंडहर मैं ले जाते हुए देखा भी पर कोई मदद नहीं की नामर्दों की तरह भाग आया
केशव : उसने कुछ नहीं किया ?
शर्मा : 100 नंबर पर पुलिस को फ़ोन कर दिया बस
केशव : अच्छा
शर्मा : और नहीं तो क्या बेशरम है
केशव : अच्छा एक बात बताइये जब गुंडा लड़की को ले जा रहे थे तो उसने कोई शोर नहीं मचाया
शर्मा : लड़की डरी हुई थी बन्दूक थी गुंडे के पास
केशव : लड़की ने विरोध तो किया होगा
शर्मा : अरे बताया न लड़की डरी हुई थी बन्दूक से
केशव : अब आप बताइये माधव का लड़का क्या उसे बन्दूक से नहीं डरना चाहिए था
शर्मा : क्या मतलब
केशव : लड़की ने अपनी जान जाने के डर से रेप हो जाने दिया तो अगर लड़के ने उसी बन्दूक से डर कर भाग आया तो क्या गलत कर दिया उसने
शर्मा : क्या बात करते हैं केशव जी वह लड़का है
केशव : लड़का है तो क्या उसे बिना सोचे समझे मर जाना चाहिए उसकी ज़िंदगी की कोई कीमत नहीं है क्या और फिर उसने पुलिस को फ़ोन तो कर ही दिया ना
शर्मा : है यह भी सोचने का तरीका हो सकता है
केशव : शर्मा जी सिर्फ यही तरीका हो सकता है अगर हम वास्तव मैं लड़के और लड़की को बराबर मानते है
शर्मा : हम्म
केशव : लड़के भी हमारे अपने है इंसान है वह भी उनको भी डर लगता है सिर्फ इसी लिए की उनको डर लगता है वह नामर्द नहीं हो जाये
शर्मा : शायद आप ठीक ही कहते हैं

 

DAMAN WELFARE SOCIETY

www.daman4men.in

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*