KESHAV & SHARMA JI : GHOST

Please Share :

Dr. G.Singh

केशव : और शर्मा जी सुनाइए कुछ नया ताज़ा
शर्मा : केशव जी आप भूत मैं विश्वास करते हैं
केशव : क्यों क्या बात हो गयी
शर्मा : कुछ नहीं अखबार देख कर आपसे जीकर किया
केशव : शर्मा जी धर्म ग्रन्थ और विशेषज्ञों का मानना है की भूत होते हैं  
शर्मा : और आपका क्या मानना है
केशव : मेरा मानना या नहीं मानना मायने नहीं रखता
शर्मा : ऐसा क्यों
केशव : शर्मा जी मैं भूत परैत विशेषज्ञों नहीं हूँ
शर्मा : यह क्या बात हुई
केशव : बिलकुल यही बात है मैं भूत के बारे मैं कुछ नहीं जनता इस लिए अपनी राय भी नहीं बना सकता
शर्मा : तो आप क्या कर सकते है
केशव : सिर्फ किसी विशेषग की रे से सहमत या असहमत हो सकता हूँ उसके तर्कों को समाज कर
शर्मा : और जो मंदिर मैं बकरे की बलि दी जाती है उसका क्या
केशव : इस मामले मैं भी मैं विशेषग नहीं इस लिए गलत या सही निर्धारित करने का तर्क मेरे पास नहीं है
शर्मा : बात तो आपकी ठीक है फिर भी कुछ आपकी राय तो हो सकती है
केशव : हो सकती है परन्तु उस राय का महत्व क्या है जो ज्ञान पर आधारित न होकर सिर्फ इस जिए दी जाये क्योंकि देनी है
शर्मा : सही कहा आपने ऐसी रे की कोई महत्व नहीं है

 

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*