KESHAV & SHARMA JI : MEN’S DEATH RATE (विधवा विवाह)

Please Share :

Dr. G.Singh

 

शर्मा : केशव जी यह देखिये भारत मैं विधवाओं की संख्या लगातार बढ़ रही है
केशव : अच्छा
शर्मा : देखिये 2001 में 18.5  लाख विधवाएं थी जोकी आबादी का 0.7 % था
केशव : अच्छा
शर्मा : जोकि 2011 में बढ़कर 5.6  करोड़ हो गया जोकी आबादी का 4.6 % हो गया
केशव : हम्म
शर्मा : केशव जी सरकार को तुरंत कुछ करने की जरूरत है
केशव : क्या किया जाना चाहिए
शर्मा : विधवा विवाह पर जोर देना चाहिए और भी योजनाएं शुरू करनी चाहिए राहत के लिए
केशव : परन्तु  शर्मा जी समस्या तो पुरुषो की मृत्यु दर की है न
शर्मा : क्या फालतू बात करते है केशव जी आप भी मृत्यु को आप कैसे रोक सकते हैं
केशव : शर्मा जी 10 साल मैं कम से कम 5.4 करोड़ पुरुषो की मृत्यु हुई
शर्मा : कैसे
केशव : इतने पुरुषों की मृत्यु हुई तभी तो विधवाओं की संख्या बढ़कर 5.6 करोड़ हुई  
शर्मा : ठीक
केशव : इनमे से अधिकांश की मृत्यु आत्महत्या एक्सीडेंट बीमारी आदि कारणों से हुई
शर्मा : कुछ की मृत्यु प्राकृतिक भी हुई होगी
केशव : बिलकुल हुई होगी परन्तु मेरा विश्वास है की ज्यादा अप्राकृतिक हुई होंगी
शर्मा : शायद
केशव : तो अब बताइये विधवाओं का कल्याण कैसे किया जा सकता है
शर्मा : पुरुष कल्याणकारी योजनाएं बना कर जिससे पुरुषो की अप्राकृतिक मृत्यु को काबू किया जा सके
केशव : अरे वाह शर्मा जी आप तो बहुत जल्दी समझ गए
शर्मा : ही ही ही ही ही  …. ….

 

NOTE : Data used in this story are based on the following link

http://www.latestlaws.in/sc-centre-frame-scheme-promote-widow-remarriage-bring-mainstream-society/

 

 

DAMAN WELFARE SOCIETY

www.daman4men.in

 

3 Comments

    • अगर आपने व्यंग कहा होता तो शायद मैं आपसे सहमत हो जाता परन्तु जोक नहीं किया है यह निश्चित है

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*